बीएसएफ में सोनीपत की सौम्या बनी हरियाणा की पहली महिला कमांडेंट

0
140

हरियाणा की बेटियां हर क्षेत्र में देश मे अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा रही हैं। सोनीपत की बेटी सौम्या ने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ अभियान से प्रेरित होकर सेना का रूख कर BSF में महिला असिस्टेंट कमांडेंट बनी है। आपको बता दें की सौम्या को हरियाणा की पहली और देश की तीसरी महिला असिस्टेंट कमांडेंट बनने का गौरव प्राप्त हुआ है।

बीएसएफ में सोनीपत की सौम्या बनी हरियाणा की पहली महिला कमांडेंट

सोनीपत शहर के सेक्टर 12 निवासी 23 वर्षीय सौम्या बचपन से ही सेना व आम्र्ड फोर्सेस में जाने की इच्छुक थी। सौम्या ने वर्ष 2016 में दीनबंधु छोटूराम विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्विद्यालय मुरथल से कंप्यूटर साईंस व इंजीनियरिंग में बीटेक किया है।

स्वार्ड आफ आनर से भी सम्मानित है सौम्या –

  • 2 फरवरी को ग्वालियर स्थित BSF Academy में आयोजित दीक्षांत समारोह में सौम्या को स्वार्ड आफ आनर (Sward of Honour) से भी सम्मानित किया गया।
  • ट्रैनिंग के दौरान भी उन्हें पहले बैस्ट ट्रेनी के लिए स्वार्ड आफ आनर व बेस्ट इन इंडोर सब्जेक्ट्स के लिए डीजी ट्राफी से बीएसएफ अकादमी के निदेशक यूसी सारंगी द्वारा सम्मानित किया गया।

सौम्या ने बताया कि उसे जल्द ही देश की सीमा पर लड़ाकू (Combat) अधिकारी के तौर पर नियुक्ति मिलेगी।  उन्होंने कहा कि अपनी इस सफलता से उसने यह दिखा दिया है कि BSF जैसी नौकरी भी अब महिलाएं पुरुषों की ही तरह कर सकती हैं।

सौम्या के माता पिता अध्याप्क है। उनके पिता कुलदीप सिंह राष्ट्रपति अवार्डी हैं और राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय भिगान में प्रिंसिपल के पद पर कार्यरत हैं। माता मंजू चैहान सोनीपत के एक निजी स्कूल में अध्यापिका हैं। उनके ताऊ रिटायर्ड कैप्टन प्रेम सिंह चैहान को भी वीरता के लिए राष्ट्रपति द्वारा वीर चक्र प्राप्त है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here