करनाल में बनी प्रदेश की पहली फार्मा टेस्टिंग लैब

0
78

हरियाणा के उद्योगमंत्री विपुल गोयल ने करनाल के सेक्टर-3 में प्रदेश की पहली फार्मा टेस्टिंग लैब (Pharma Testing Lab) का उदघाटन किया है। इस लैब पर तकरीबन 12 करोड़ रुपये की लागत आई है।

इस लैब के क्या-क्या फ़ायदे होंगे –

  • इस लैब के बनने के बाद करनाल और आस-पास के स्थानो के फार्मा उद्योगपतियों को दवाइयों की जांच के लिए दिल्ली और चंडीगढ़ नहीं जाना पड़ेगा।
  • यह लैब कॉमन फैसिलिटी सेंटर (Common Facility Centre) हरियाणा की पहली फार्मा टेस्टिंग लैब है।
  • इस लैब में दवाइयों की जांच के साथ-साथ नई दवाइयां बनाने से संबंधित शोध भी की जा सकेगी।
  • इस लैब के करनाल में स्थापित होने से प्रदेश सहित आस-पास के राज्यों में स्थापित दवा उत्पादक कंपनियों को भी लाभ होगा।
  • इस लैब में एलोपैथिक, आयुर्वेदिक और हर्बल दवाइयों (Allopathic, Ayurvedic and herbal medicines) के साथ-साथ कॉस्मेटिक्स और फूड सप्लीमेंट्स (Cosmetics & Food Supplements) की भी जांच हो सकेगी।
  • इस लैब से करनाल में फार्मा उद्योग को बढ़ावा देने में सहायक होगी, जिससे आने वाले समय में युवाओं को रोजगार के बेहतर अवसर मिलेंगे।

महत्वपूर्ण जानकारी –

  • करनाल में इस समय कितनी फार्मा इंडस्ट्री है – लगभग 25
  • करनाल में ही फार्मा क्लस्टर (Pharma Cluster) बनाने की घोषण की जा चुकी है।
  • हरियाणा सरकार द्वारा करनाल के फार्मा पार्क (Pharma Park) के लिए 50 करोड़ रुपये के निवेश की योजना बनाई है।
  • हरियाणा सरकार ने पानीपत में टेक्सटाइल क्लस्टर (Textile Cluster) स्थापित करने के लिए भी योजना बनाई है।
  • हरियाणा में फार्मा उद्योग (Pharma Industry) को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने फार्मा पॉलिसी (Pharma Policy) भी बनाई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here