अनीता कुंडु ने फहराया अंटार्कटिका महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी ‘विन्सन मासिफ’ पर तिरंगा

0
37

माउंट एवरेस्ट को दोनों तरफ से फतह करने वाली हरियाणा की बेटी अनीता कुंडु ने मकर सक्रांति के दिन एक और बड़ा कारनामा कर दिखाया है। अनीता ने 14 जनवरी 2019 कि सुबह 4:20 AM पर अंटार्कटिका महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी विन्सन मासिफ (Vinson Massif) पर तिरंगा फहरा कर देश और राज्य का नाम रौशन किया है|

अंटार्कटिका महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी विन्सन मासिफ को दुनिया की सबसे ठंडी चोटियों में से एक माना जाता है तापमान माइनस 40-50 डिग्री रहता है। जिस कारण यहां पर चढ़ाई करना जोखिम से भरा रहता है। इतनी ठंड में पर्वतारोही के लिए बड़ी चुनौती अपने स्वास्थ्य को सही बनाए रखना होती है। मगर अनीता ने हार नहीं मानी और इसे फतह किया।

नोट – विन्सन मासिफ चोटी की लंबाई 4892 मीटर है|

अनीता सेवन समित प्रोग्राम के तहत विश्व की सातों ऊंची चोटियों को फतह करेगी| आपको बता दें कि अनीता कुंडु नेपाल और चाइना के रास्ते माउंट एवरेस्ट फतह करने वाली प्रथम भारतीय महिला है| उन्होने 2017 में माउंट एवरेस्ट (चाइना साइड से), मार्च 2018 में इन्डोनेशिया  की कारस्टेंस पिरामिड शिखर, अगस्त 2018 में यूरोप की एल्ब्रुस,  अक्तूबर 2018 में अफ्रीका की किलिमंजरों को फतह किया। 2018 में उन्होने देनाली पर्वत की चढ़ाई शुरू की थी लेकिन बर्फीले तूफान ने उनका रास्ता रोक लिया। अपने सेवन समिट प्रोग्राम के तहत वह संसार पाँच महाद्वीपों की पाँच ऊंची चोटियों को फतह कर चुकी है।

माउंट विन्सन की चढ़ाई करने के लिए दस पर्वतारोहियों का एक ग्रुप गया था। जिसमें अनीता कुंडू भारत से अकेली थी और 9 पर्वतारोही विदेश से थे।

आपको बता दें कि उनके इस अभियान पर लगभग 70 लाख रुपये का खर्च आया है। उनके इस अभियान को सिक्युरिटी एंड इंटेलिजेंस इंडिया लिमिटेड ने स्पोंसर किया हुआ है। उनके सभी अभियानों का खर्च राज्यसभा सांसद रविन्द्र किशोर सिन्हा की यह कंपनी उठाती है। सिन्हा अनीता को अपनी बेटी मानते हैं और वे उनकी इस बहादुरी पर गर्व करते हैं।

वर्ष 2018 में अनीता को हरियाणा महिला एवं बाल विकास विभाग (Haryana Women & Child Development Department) की ओर से अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर कल्पना चावला शोर्य पुरस्कार से सम्मानित किया गया था| अनीता हरियाणा पुलिस हिसार में सब इंस्पेक्टर के पद पर कार्यरत है।

अनीता कुंडु के बारें में –

  • अनिता कुंडू उकलाना के फरीदपुर गांव से है |
  • उनके पिता ईश्वर कुंडू अनीता को बचपन में बॉक्सिंग की प्रेक्टिस कराते थे |
  • जब अनीता 13 वर्ष की थीं उस समय उनके पिता की एक हादसे में मौत हो गई जिसके चलते उनकी बॉक्सिंग छूट गई |
  • मां ने उन्हें पाला और उन्हें हरियाणा पुलिस (Haryana Police) में कांस्टेबल भर्ती कराया |
  • इसी से अनिता कुंडू ने बॉक्सिंग (Boxing) छोड़कर पर्वतारोही के तौर पर करियर शुरु किया |
  • अनिता कुंडू ने प्रथम बार, वर्ष 2013 में नेपाल की तरफ से माउंट एवरेस्ट (Mount Everest) फतह किया|
  • इसके बाद दूसरी बार वर्ष 2017 में चीन की तरफ से पार माउंट एवरेस्ट फतह किया।
  • 2018 में उन्होने इन्डोनेशिया, रूस और अफ्रीका को फतह किया।
  • मार्च 2018 में इन्डोनेशिया  की कारस्टेंस पिरामिड शिखर को फतह किया।
  • अगस्त 2018 में यूरोप की एल्ब्रुस को फतह किया।
  • अक्तूबर 2018 में अफ्रीका की किलिमंजरों को फतह किया
  • 2018 में उन्होने देनाली पर्वत की चढ़ाई शुरू की थी लेकिन बर्फीले तूफान ने उनका रास्ता रोक लिया।

Leave a Reply