कैथल की बेटी कोमल ने पोलैंड में इंटरनेशनल बॉक्सिंग टूर्नामेंट में जीता गोल्ड

0
29

हरियाणा के कैथल के एक छोटे से गांव मानस की बेटी कोमल भाल ने में पोलैंड में हुए 13वे इंटरनेशनल बॉक्सिंग टूर्नामेंट (13th International Boxing Tournament) में गोल्ड मेडल जीतकर देश का नाम रोशन किया है।

कैथल की बेटी कोमल ने पोलैंड में, इंटरनेशनल बॉक्सिंग टूर्नामेंट में जीता गोल्ड

कैथल पहुंचने पर बॉक्सर कोमल भाल का भव्य स्वागत किया गया और लोगों ने अपनी शुभकामनाएं दी। कोमल भाल के दादा कर्मवीर भाल ने बताया कि वह हर रोज सुबह उठाकर अपनी पोती से  रेस लगवाते  हैं और उसके बाद बॉक्सिंग के मैदान में प्रैक्टिस के लिए भेजतें हैं|

इस प्रकार से है कोमल की सफलता की कहानी-

कोमल का वजन लगातार बढ़ता जा रहा था जो की 75 किलो हो गया था| कोमल के वजन को ले कर दादा बहुत चिंतित हो गए| उन्होने कोमल के वजन को कम करवाने के लिए कैथल में रहने वाले कोच राजेंद्र सिंह से संपर्क किया और कहा कि बेटी का वजन लगातार बढ़ रहा है। मुझे इसकी चिंता है आगे जाकर इसकी शादी कैसे होगी। आप कुछ मदद कीजिए।

जिसके बाद कोच राजेंद्र सिंह ने देखा कि लड़की के अंदर ऊर्जा है, अगर यह ऊर्जा बॉक्सिंग में लगाए तो देश का नाम रोशन कर सकती है और उन्होंने और कोच गुरमीत सिंह ने कोमल को बॉक्सिंग सिखानी शुरू की। पहले साल से ही परिणाम आने शुरू हो गए और कोमल ने 7 मैडल स्टेट में व 3 मैडल नेशनल में जीते।

लगभग 3 साल के प्रयास के बाद कोमल ने पोलैंड में हुई प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल ला कर यह सिद्ध कर दिया है कि अगर देश की बेटियां कुछ करना चाहे, तो उनको आगे बढ़ने से कोई नहीं रोक सकता।

कोमल के दादा ने बताया की उन्होंने बेटा और बेटी में कभी फर्क नहीं समझा उनकी तीन पोतियां हैं, तीनों ही बॉक्सिंग खेलती हैं और वह उन लोगों को संदेश देना चाहते हैं, जो लोग बेटियों को घर में बांधकर रखते हैं व उन्हें बाहर  नहीं जाने देते, ऐसे लोगों को बेटियों पर विश्वास रखना चाहिए।

बेटिया अपने घर का ही नहीं पूरे देश का नाम रोशन करेगी कोमल भाल  ने बताया कि उनका अगला लक्ष्य एशियन गेम्स  व ओलंपिक रहेगा और वह कड़ी मेहनत करेगी  और देश का नाम रोशन करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here