फ़रीदाबाद के बारें में विस्तृत जानकारी

0
94

फ़रीदाबाद के बारें में विस्तृत जानकारी – 

फ़रीदाबाद, हरियाणा के दक्षिणी-पूर्वी भाग में स्थित है| यह एनसीआर क्षेत्र में शामिल है| आज के समय में फ़रीदाबाद अपने उद्योगो के लिए बहुत ही प्रसिद्ध है| यहाँ अनेक तरह की औद्योगिक इकाइयों की स्थापना हो चुकी है| हरियाणा की आय का 60% हिस्सा फ़रीदाबाद से ही आता है| यह दिल्ली से मात्र 10 किमी की दूरी पर है|फ़रीदाबाद के बारें में विस्तृत जानकारी

विशेष –

  1. सर्वाधिक जनसंख्या वाला जिला
  2. सर्वाधिक घनत्व वाला जिला
  3. सर्वाधिक नगरीय जनसंख्या वाला जिला
  4. सर्वाधिक उद्योगो वाला जिला
क्षेत्रफल 783 वर्ग किमी
स्थिति दक्षिणी-पूर्वी, उत्तर में दिल्ली पूर्व व उत्तर प्रदेश पश्चिम में गुरुग्राम स्थित है |
स्थापना 15 अगस्त 1979
घनत्व 2298 वर्ग किमी
मुख्यालय फ़रीदाबाद
जनसंख्या 1809733
लिंग अनुपात 1000 : 873
विकास दर 32.54%
साक्षारता 81.7%
प्रमुख बोली जाने वाली भाषाए हिंदी, पंजावी, ब्रज भाषा सहित हरियाणवी
तहसीले फरीदाबाद, बल्लभगढ़
खंड फरीदाबाद, बल्लभगढ़
उपमंडल फरीदाबाद, बल्लभगढ़
उपतहसील मोहना, तिगांव
प्रमुख फसलें गेहूं, ज्वार, बाजरा, चावल, तिलहन, गन्ना
प्रमुख उद्योग मशीनी उपकरण, इस्पात, ट्यूब, पावरलूम, रासायनिक पढ़ार्थ एवं औषधि
प्रमुख नदी यमुना
लोकसभा क्षेत्र फरीदाबाद
विधानसभा क्षेत्र फरीदाबाद, बल्लभगढ़, बधकल, फरीदाबाद एनआईटी, पृथला, तिगांव
पर्यटन स्थल बधकल झील, सूरजकुंड टूरिस्ट परिसर, शिर्डी साई बाबा मंदिर, इस्कॉन मंदिर, सूरजकुंड झील, राजा नाहर सिटी पैलेस, धौज झील आदि
[ads1]

इतिहास –

फरीदाबाद शहर 1607 इसवीं में जहाँगीर के कोषाधिकारी शेख फरीद द्वारा बसाया गया | इसकी स्थापना के पीछे दिल्ली-आगरा मार्ग की सुरक्षा का कारण था|1867 में इस शहर को नगरपालिका बनाया गया| फरीद ने यहाँ एक किला, एक तालाब तथा एक मस्जिद बनवाई, बाद में यह बल्लभगढ़ के शासक के पास उसकी जागीर के तौर पर रहा|

1857 में यहाँ के शासकों ने प्रथम स्वतन्त्रता संग्राम में महत्वपूर्ण योगदान दिया, जिसके कारण अंग्रेजों ने फ़रीदाबाद को अपने कब्जे में ले लिया|

इस शहर से पहले एक गाँव था जिसमे चौदहवीं सदी के प्रसिद्ध साहित्यकार ईसरदास रहते थे | उनकी तीन पुस्तकें ‘अंगद पैजा’ , ‘भरत विलाप’ और ‘सत्यवती कथा’ मशहूर हैं | इसके निकट के ही सीही गाँव में सूरदास का जन्म हुआ था |

हरियाणा के 12वें जिले के रूप में फ़रीदाबाद 15 अगस्त 1979 में बना | इसके उत्तर मे दिल्ली, पश्चिम में गुड़गांव और दक्षिण में पूर्व में उत्तर प्रदेश स्थित है | इसके पूर्व में सदाबहार यमुना नदी है |

हरियाणा राज्य में फ़रीदाबाद सर्वाधिक जनसंख्या वाला जिला है | शहरीकरण में फ़रीदाबाद सबसे आगे है | यह हरियाणा राज्य का प्रथम जिला है जिसकी जनसंख्या 20 लाख से अधिक है | इस जिले में मलिन बस्ती जनसंख्या भी सर्वाधिक है | फरीदाबाद के गाँव तिगांव को अमर शहीदों का गाँव कहा जाता है |

कृषि और खनिज –

गेहूं फ़रीदाबाद की प्रमुख फसल है| इसके अलावा यहाँ ज्वार, बाजरा, चावल, गन्ना और तिलहन-दलहन आदि भी काफी मात्र में होते है| फ़रीदाबाद के पूर्व में सदाबहार यमुना नदी बहती है, जिससे यहाँ सिंचाई की काफी सुविधाएं उपलब्ध है|

[ads1]

व्यापार और उद्योग –

सन 1947 में स्वतन्त्रता प्राप्ति के समय फ़रीदाबाद एक अविकसित क्षेत्र था | देश के विभाजन के बाद पश्चिमी पंजाब व उत्तर पश्चिमी सीमा प्रदेश से विस्थापित परिवार फ़रीदाबाद में आकर बस गए। इन लोगों ने इस नगर में व्यापक स्तर पर उद्योग- धन्धे स्थापित करके इसे औद्योगिक नगरी का गौरव प्रदान किया। नया फ़रीदाबाद देश के उन दस नगरों में शामिल था, जो विशेषकार विस्थापितों के लिए बसाया गया था | हरियाणा में ऐसा दूसरा नगर नीलोखेड़ी है | आज फ़रीदाबाद को औद्योगिक नगरी होने का गौरव प्राप्त है | यहाँ की जनसंख्या वृद्धि दर भी राज्य में सबसे तीव्र है |

यहाँ पिन व बटन से लेकर ट्रैक्टर, मोटर साइकिल, एयर कंडीशनर- कूलर, बिजली के स्विच, रेफ्रीजरेटर, टेलीविज़न, रेडियों, जूते और टायरों का निर्माण होता है |

यातायात और परिवहन –

फ़रीदाबाद सड़क और रेलमार्ग द्वारा देश की राजधानी दिल्ली से जुड़ा हुआ है| राष्ट्रीय राजमार्ग NH 44 (पुराना नाम NH 2) से आप आसानी से फ़रीदाबाद पहुँच सकते है| दिल्ली-मथुरा रेल लाइन पर फ़रीदाबाद में रेलवे स्टेशन भी बनाया है|

शिक्षण संस्थान –

फ़रीदाबाद में मानव रचना शिक्षण संस्थान को अक्तूबर 2008 में मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा डीम्ड यूनिवर्सिटी का दर्जा प्रदान किया गया और इसका नाम ‘मानव रचना इंटेरनेशनल यूनिवर्सिटी’ हो गया |

फ़रीदाबाद में अग्रवाल कॉलेज, कैरियर इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी ऐंड मैनेजमेंट, जवाहरलाल नेहरू राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय, मेहता इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट और नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ फ़ाइनेंशियल मैनेजमेंट समेंत कई महाविद्यालय है।

पर्यटन स्थल –

यहाँ के प्रमुख पर्यटक स्थलों में बड्खल झील, सूरजकुंड, अरावली गोल्फ क्लब, राजा नाहरसिंह का महल और डबचिक प्रसिद्ध है |

  • सूरज कुंड – इस कुंड का निर्माण तोमर वंश के राजा सूरजपाल ने करवाया था | बड्खल झील दिल्ली- मथुरा राष्ट्रीय राजमार्ग से मात्र तीन किलोमीटर की दूरी पर स्थित है | वर्ष 1947 में सिंचाई परियोजना के अंतर्गत इसका निर्माण किया गया था | जिसका उद्देश्य भूमि के कटाव को रोकना था | इस झील पर 6445 मीटर लंबा और 6 मीटर चौड़ा बांध बनाया गया |
    फ़रीदाबाद के बारें में विस्तृत जानकारी
  • अरावली का गोल्फ मैदान – नेशनल हाइवे नंबर 2 से सटा हुआ यह गोल्फ मैदान अति सुसज्जित है | जिसका डिजाइन अमेरिका के स्टीफन के ने बनाया है |
    फ़रीदाबाद के बारें में विस्तृत जानकारी
  • ख्वाजा की सराय फ़रीदाबाद जिले के गाँव सराय ख्वाजा में लगभग तीन सौ वर्ष पुरानी एक सराय है | इस सराय के नाम पर ही गाँव का नाम सराय ख्वाजा पड़ा | यह सराय पीर ख्वाजा ने बनवाई थी |
  • राजा नाहरसिंह की हवेली, बल्लबगढ़ यह हवेली बल्लबगढ़ में दुर्ग प्राचीर के भीतर स्थित है | इस किले को बनवाने की योजना राजा बल्लू के शासनकाल में बनाई गई थी, जिसे उनके पुत्र किशनसिंह ने पूरा किया |
  • सूरदास जन्मस्थली, सीही बल्लबगढ़ के निकट स्थित सीही ग्राम सूरदास की जन्मस्थली है | यह साहित्यकारों का आराध्य स्थल है और सुदास के जन्म दिवस पर यहाँ साहित्यिक कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं |
  • दाऊजी मंदिर, बंचारी फरीदाबाद में लगभग 5 किलोमीटर दूर जी टी रोड पर स्थित बंचारी ग्राम में दाऊजी का मंदिर है | यह श्री कृष्ण के भाई बलराम की याद में बना प्राचीन मंदिर है |
  • बाबा फरीद टोम्ब अवधारणा है कि सूफी संत बाबा फरीद ने फ़रीदाबाद नगर की स्थापना की थी | यह गुंबद स्थानीय स्थानीय लोगों के लिए तीर्थस्थल है |
  • धौज झील फ़रीदाबाद जिले का यह गाँव अरावली पर्वतमाला में सोहाना- फ़रीदाबाद मार्ग पर स्थित है | पर्वतारोहण के लिए यह एक उपयुक्त स्थान है | जहां लगभग ढाई सौ ऐसे पर्वतीय स्थल है | जो पर्वतारोहियों के लिए विशेष आकर्षण उत्पन्न करते है | यहाँ की धौज नामक झील अत्यंत दर्शनीय है |
  • सौंधाड़ फ़रीदाबाद से 65 किलोमीटर दूर इस ग्राम में पत्थर पर उत्कीर्ण शिल्प की अनेक कलाकृतियाँ मिली हैं |

Important Links

[toggle title=”Other District of Haryana” state=”open”]

पानीपत के बारें में विस्तृत जानकारी

फ़तेहाबाद के बारें में विस्तृत जानकारी

भिवानी के बारें में विस्तृत जानकारी

अंबाला के बारें में विस्तृत जानकारी

[/toggle]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here