पेंशन बनवाना हुआ आसान, किया ये बड़ा बदलाव, 1 नवंबर से मिलेगी 2000 रुपये मासिक बुढ़ापा पेंशन

0
71

पेंशन बनवाना हुआ आसान, किया ये बड़ा बदलाव, 1नवंबर से मिलेगी 2000 रुपये मासिक बुढ़ापा पेंशन

हरियाणा सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है, सरकार ने पेंशन के नए नियम लागू किए है|  जिससे आम लोगों की जिंदगी भर की टेंशन खत्म हो जाएगी और उन्हे फायदा ही फायदा

बदलाव के बाद नए नियम –

  • नए नियमों के तहत अब संतान की उम्र 40 साल होते ही बुजुर्ग अपनी बुढ़ापा पेंशन बनवा सकता है। इससे पहले संतान की उम्र 41 साल तय की गई थी|
  • सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग (Department of Social Justice and Empowerment) द्वारा बुढ़ापा सम्मान भत्ता योजना के तहत आयु के संबंध में लिये जाने वाले दस्तावेज एवं मेडिकल बोर्ड बारे में नये दिशानिर्देश जारी किए हैं जो इस प्रकार से है अब पेंशन के लिए पात्र व्यक्ति स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी जन्मतिथि प्रमाण पत्र, स्कूल प्रमाण पत्र, 16 जून 2016 से पूर्व जारी किया गया डीएल, पासपोर्ट, वर्ष 2005 या इससे पूर्व जारी किया गया स्वयं का फोटो युक्त पेन कार्ड, मतदाता पहचान पत्र व फोटोयुक्त मतदाता सूची में से आवेदक अपनी आयु के आंकलन के लिए कोई एक दस्तावेज उपलब्ध करवाकर पेंशन का लाभ ले सकता है।
  • अगर किसी के पास कोई दस्तावेज नही है तो – यदि आवेदक के पास यह दस्तावेज नहीं है तो वह अपनी बड़ी संतान (लड़का/लड़की) की आयु 40 वर्ष होने का जन्मतिथि प्रमाण पत्र या स्कूल प्रमाण पत्र भी आवेदन फार्म के साथ लगा सकता
  • डीसी (Deputy Commissioner) ने बताया कि अगर किसी व्यक्ति का नाम दस्तावेज (Documents) में गलत है तो वह नाम परिवर्तन के लिए जिला मजिस्ट्रेट व पब्लिक नोटरी द्वारा सत्यापित शपथ पत्र व हिंदी व अंग्रेजी के एक-एक समाचार पत्र में विज्ञापन की औपचारिकता पूरी करके पेंशन का लाभ ले उठा सकते है।

अगर किसी आवेदक के पास संतान का भी 40 वर्ष आयु साबित करने के लिए कोई दस्तावेज नहीं है तब उसे क्या करना है –

डीसी डॉ. यश गर्ग ने बताया कि अगर किसी आवेदक के पास संतान का भी 40 वर्ष आयु साबित करने के लिए कोई दस्तावेज नहीं है तो वह आयु का आंकलन करने के लिए एक पत्र जिला समाज कल्याण अधिकारी (Social welfare officer) व डीसी (Deputy Commissioner) को दे सकता है। डीसी की अनुमति के बाद सिविल अस्पताल में गठित बोर्ड को आयु जांचने के लिए अर्जी दी जाएगी। हर माह दो डाक्टरों का पैनल एक दिन लोगों की आयु की जांच करेगा। अगर बोर्ड लिखकर देता है कि संबंधित व्यक्ति की उम्र 60 साल या इससे अधिक है तो उसे बुढ़ापा पेंशन का पात्र माना जाएगा|

1 नवंबर से मिलेगी रुपये 2000/ मासिक बुढ़ापा पेंशन –

जैसा की आपको पता सीएम मनोहर लाल पहले ही घोषणा कर चुके हैं कि एक नवंबर 2018 से बुढ़ापा पेंशन दो हजार मासिक दी जाएगी, जो की वर्तमान में 1800 रुपये है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here