हरियाणा में 1120 जवानों की नई बटालियन HSDRF का गठन किया जाएगा

0
108

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने हरियाणा में प्राकृतिक आपदा प्रबंधन (Natural Disaster Management) के लिए एक बटालियन के लिए मंजूरी दे दी है| इसे हरियाणा स्टेट डिजास्टर रिस्पांस फोर्स (Haryana State Disaster Response Force ) नाम दिया गया है। इस बटालियन में 1120 जवानों को शामिल किया जाएगा। अभी तक इस तरह की बटालियन बिहार, उत्तराखंड व तमिलनाडू में काम कर रही हैं।

पहले से हरियाणा में एक बटालियन है, लेकिन अब नई बटालियन में जहां जवानों की संख्या को बढ़ाया जाएगा, वहीं प्राकृतिक आपदाओं में लोगों को तुरंत राहत पहुंचाने की जिम्मेवारी भी इस बटालियन को सौफ़ी जाएगी|

हरियाणा में 1120 जवानों की नई बटालियन HSDRF का गठन किया जाएगा

प्रति वर्ष इस बटालियन पर करीब 53 करोड़ रुपए की राशि खर्च आएगा| इस संदर्भ में कई बड़ी बैठकें हो चुकी हैं। अब फाइनल होने के बाद वित्त विभाग के पास फाइल जाएगी। वहां से मोहर लगते ही बटालियन के गठन का काम शुरू होगा।

[ads1]

क्या काम करेंगे बटालियन के जवान –

नई बटालियन के जवानों को पहले विशेष प्रशिक्षण दिया जाएगा। ताकि किसी भी आपदा से ये निपटा सकें। बटालियन को भूकंप, बाढ़, आग लगने, केमिकल लीकेज, भवन ढहने, नाव पलटने, ट्रेन, रोड व हवाई दुर्घटनाएं, बॉयलर एक्सीडेंट, इंडस्ट्रियल डिजास्टर व नेचुरल क्लाइमेट आदि के लिए तैयार किया गया है।

गृह विभाग तैयार करेगा सूची –

गृह विभाग नई बटालियन (HSDRF) के लिए नियम व पदों की सूची जल्द तैयार करेगा। ताकि बटालियन को अगले साल से डयूटी सौंपी जा सके। गृह विभाग से तेजी से फाइनल करेगा, ताकि प्रदेश के लोगों को जिस बटालियन की जरूरत है वह समय रहते मिल सके।

हर साल कहाँ-कहाँ होती है HSDRF की बड़ी जरूरत –

प्रदेश के यमुनानगर, करनाल, कुरुक्षेत्र, पानीपत, सोनीपत, पलवल जिलों से होते हुए यमुना गुजरती है। मई से लेकर अक्टूबर तक यमुना में कई बार बाढ़ जैसी स्थिति पैदा होती है। सैकड़ों ऐसे गांव हैं जहां बाढ़ का प्रकोप अधिक रहता है। इसके अलावा कई जिलों में निचले इलाकों में जल भराव की स्थिति पैदा हो जाती है। ऐसे में बाढ़ जैसे हालात बन जाते हैं।

हरियाणा को होती है दिक्कत –

वर्तमान में हरियाणा को एनडीआरएफ (NDRF) की सेवाएं लेने में कड़ी मशक्कत का सामना करना पड़ता है। ऐसे में एचएसडीआरएफ (HSDRF) का गठन प्रदेश के लिए जरूरी है। एचएसडीआरएफ (HSDRF) का पूरा नियंत्रण पुलिस की तरह गृह विभाग के पास ही रहेगा। पहले चरण में हरियाणा में HSDRF की एक बटालियन तैनात की जाएगी। इसके बाद इसका विस्तार किया जाएगा। गृह विभाग द्वारा तैयार प्रोजैक्ट रिपोर्ट के अनुसार HSDRF की एक बटालियन को उपकरण, वाहन तथा अन्य आधुनिक सामान मुहैया करवाने अथवा बटालियन के रख-रखाव के लिए अनुमानित बजट का भी खाका तैयार किया गया है।

हरियाणा के मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार ने मीडिया को बातचीत के दौरान बताया कि हरियाणा सरकार ने केंद्र के निर्देशों के बाद एचएसडीआरएफ के गठन की प्रक्रिया शुरू कर दी है। वित्त विभाग की मंजूरी मिलते ही इस दिशा में हरियाणा सरकार द्वारा केंद्र को प्रस्ताव भेज दिया जाएगा, ताकि इसमें अधिकारियों की तैनाती के संबंध में मंजूरी ली जा सके। विभागीय औपचारिकताएं पूरी होते ही हरियाणा की अपनी एचएसडीआरएफ बटालियन काम करने लगेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here