हरियाणा समेत 7 राज्यों में शुरू होगी “अटल भूजल योजना”

0
320

भारत सरकार ने अप्रैल, 2018 में देश में भूजल के स्तर को बनाए रखने और भूजल का संरक्षण तथा इसका स्तर बढ़ाने के लिए ‘अटल भूजल योजना’ शुरू करने की घोषणा की थी।हरियाणा समेत 7 राज्यों में शुरू होगी "अटल भूजल योजना"

आने वाले दो महीने में ‘अटल भूजल योजना’ को केंद्र की मोदी सरकार शुरू करने जा रही है, जो भू-जल प्रबंधन के लिए काम करेगी।

आपकों बता दें कि यह योजना हरियाणा समेत 7 राज्यों में लागू कि जाएगी| जिन राज्यों में यह योजना लागू कि जाएगी उनके नाम इस प्रकार से है गुजरात, कर्नाटक, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, राजस्थान व उत्तर प्रदेश |

जिन राज्यों ‘अटल भूजल योजना’ शुरू कि जाएगी उनके 78 जिलों, 193 ब्लॉकों और 8350 ग्राम पंचायतों को इस योजना में शामिल किया जाएगा|

केंद्रीय भूजल बोर्ड (सीजीडब्ल्यूबी) की पिछले वर्ष की रिपोर्ट के मुताबिक देश के 6584 भूजल ब्लॉकों है | जिनमें से 1034 ब्लॉकों का बहुत ज्यादा इस्तेमाल किया गया है। इन ब्लॉकों के भूजल का वार्षिक उपभोग इनके पुनर्भरण से ज्यादा रहा।

सामान्यत: इसे ‘डार्क जोन’ (पानी के संकट की स्थिति) कहा जाता है। इसके अलावा 934 ब्लॉक ऐसे हैं जिनमें पानी का स्तर कम हो रहा है, लेकिन उनका पुनर्भरण नहीं किया जा रहा। ऐसे ज्यादातर ब्लॉक पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, राजस्थान, गुजरात, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और तमिलनाडु में हैं।

हरियाणा समेत 7 राज्यों में शुरू होगी "अटल भूजल योजना"

जल संसाधन मंत्रालय के आंकड़े के मुताबिक, भारत में जल की प्रति व्यक्ति उपलब्धता वर्ष 1951 में 5177 घनमीटर से घटकर वर्ष 2011 में 1545 घनमीटर तक रह गई। इसका एक प्रमुख कारण वार्षिक जल उपलब्धता (आपूर्ति) से अधिक जल उपभोग (मांग) पर प्रभावी नियंत्रण की कमी का होना है । राष्ट्रीय जल मिशन के तहत 11 राज्यों आंध्रप्रदेश, अरूणाचल प्रदेश, गुजरात, कर्नाटन, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा, तमिलनाडु, तेलंगाना, उत्तराखंड और पश्चिम बंगाल को कार्य निष्पादन आधारित जल संचालन के उद्देश्य मॉडल के तौर पर तैयार करने की पहल की गई है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here