एक पेड़, अपने नाम

0
22

अगर आपके पास दो मिनट का समय है तो जरूर पढ़ें ….. या आप अनदेखा भी कर सकते है|

“ पेड़ बचाओ, जीवन बचाओ”, “पेड़ लगाओ, पृथ्वी बचाओ”, “पेड़ लगाओ, पर्यावरण बचाओ” …….. ……  ऐसे बहुत से नारे हैं | दोस्तों ये केवल नारे या एक कुछ शब्दों का समूह भर नहीं है,

आज ये एक हमारी नैतिक ज़िम्मेदारी या कर्तव्य है जिसे इस धरती पर रहने वाले हरेक इंसान को समझना चाहिए और मानना भी चाहिये।

आज हमारी पृथ्वी कितनी गर्म हो चुकी, पर्यावरण-चक्र कितना बदल गया है| न समय पर बरसात होती है, न समय पर अनाज होता है| बहुत कुछ ऐसा है जो बदल गया है या बर्बाद हो गया है|

कितनी ही वनस्पति, जीव-जन्तु लुप्त हो चुके है| ……….. किसकी वजह से ?
इन्सानो की वजह से, हमारी वजह से ….. |

हमने कुछ नही छोड़, पृथ्वी की दूसरी प्रजातियों के लिए, उनके रहने के घर छिन लिए, जंगल छिन लिए, उनके खाने से साधन छिन लिए …… अफ़सोस हम इन चीजों को नजरंदाज कर देते है |

कुछ साल पहले हमारे गाँव में एक छोटी से बन (पेड़ों से घिरा छोटा भाग) था, उसके पास एक जोहड़ था, मैंने अपनी आंखो से देखा है उसे बदलते हुए | वहाँ पशु-पक्षी रहते थे, अपना गुजर बसर करते थे| लेकिन हमारे गाँव की पंचायत ने वो भूमि बिजली घर बनाने के लिए बेच दी | ……. पेड़ों को काटा गया, पशुओ का रहने का स्थान छिना गया | …………..

अब वह रहने वाले पशु गली गली घूम कर पोलिथीन खाते है, नाले में पड़ा खाते है, ………….

हम उन्हे पता है क्या कहते है ……… आवारा पशु |

उनको आवारा किसने बनाया …….. | हम इन्सानों ने |

ऐसा ही हर जगह होता है ….  शायद |

जरा सोचे ……… अगर कोई हमें बेघर करें को हमें कैसा लगेगा | वे तो बेचारे बेसहारा है| वो कुछ नही कर सकते , लेकिन हम उनके लिए बहुत कुछ कर सकते है|

हम पृथ्वी को बचा सकते है| हम पृथ्वी की सभी प्रजातियों को बचा सकते है|

आज हमारे पास ये मौका भी है और हमारे लिए जरूरी भी है, कि हम एक पेड़ धरती को जरूर उपहार के रूप में दें जिसने हमें सब कुछ दिया है जीवन दिया है|

पृथ्वी हमारा, पशु-पक्षी और  जंगली जानवरों के लिये प्राकृतिक घर है। अपने घर को सजाने के लिए उसे खुशहाल बनाने के लिए एक पेड़ जरूर लगाए |

आज की इस आधुनिक दुनिया में पेड़-पौधों को बचाना बहुत ज़रुरी है | आज लगातार पेड़ों कि कटाई हो रही है शहरीकरण, औद्योगिकीकरण के लिए जिससे ग्लोबल वार्मिंग तेजी से बढ़ रहा है।

आज कि इस तकनीकी दुनिया में, हम इंसान केवल अपने लिये ही कार्य रहे और अपने लिए ही  लड़ रहें है, हम केवल अपने लिए जी रहे है, केवल पेड़-पौधे ऐसे है जो वर्षो से दूसरों (इंसान और पशु) के लिये जीते आ रहे है, सदियों से हमारी सुरक्षा कर रहे हैं |

फल, सब्जी, वनस्पति, फूल, मसाले, ठंडी छाया, दवा, जड़, वृक्ष की छाल, लकड़ी, अंकुर आदि उपलब्ध कराने के द्वारा बहुत तरीके से धरती पर जीवन पोषित करती है।

एक पूरी तरह से विकसित पेड़ बिना कुछ वापस लिये मानवता की बहुत वर्षों तक सेवा करता है। हवा को शुद्ध करने, पारिस्थितिकी संतुलन को बनाये रखने, दवा आदि उपलब्ध कराने के द्वारा ये हमें कई बीमारियों से भी बचाता है।

ऐसे संगठनों से जुड़ना चाहिए जो पेड़ों को बचाने के लिये कार्य कर  रहे है और हमें अपनी तरफ से भी कुछ प्रभावकारी कदम उठाना चाहिये।

 

हमें अपनी इच्छा से पेड़ों को बचाना चाहिये और जिससे दूसरे लोग भी प्रेरित हो सकें। हमें अपने आस-पास नये पेड़-पौधों को लगाना चाहिये।

हमें अपने परिवारजन, दोस्त, पड़ोसी, छोटे बच्चे को धरती के इस महत्वपूर्ण संसाधन को बचाने के लिये बढ़ावा देना चाहिये। हमें समुदायिक या राज्य में पेड़ संरक्षण मुद्दे पर चर्चा या मीटिंग में भाग लेना चाहिये। हमें अपनी नयी पीढ़ी और बच्चे को सैर या शिविरों में उन्हें ले जाने के द्वारा पेड़, प्रकृति और पर्यावरण का सम्मान करना सिखाना चाहिये।

प्रकृति के द्वारा दिया गया हमारे जीवन में पेड़ बहुत अनमोल उपहार है। ये धरती पर हरे सोना के सामान है और हरेक के जीवन में बहुत मायने रखता है।

पेड़ों को बचना क्यों जरूरी है –

  • पेड़ों से हमें जीवन दायनी ऑक्सीजन मिलती है |
  • वायुवाहित कण, रसायन, जहरीले गैसों, गर्मी को घटाना, कार्बन डाई ऑक्साइड का उपभोग और दूसरे प्रदूषक जैसे सल्फर डाईऑक्साइड और नाईट्रोजन डाईऑक्साइड को रोकने और छानने के द्वारा पेड़ हवा को साफ करने और ताजा करने का बहुत महत्वपूर्ण साधन है |
  • पर्यावरण में खतरनाक गैसों के लिये पेड़ प्राकृतिक कूड़ेदान की तरह कार्य करता है।
  • पेड़ प्राकृतिक छाया और ठंडी हवा का साधन है और कृत्रिम ठंडा करने की तकनीक जैसे पंखा, कूलर, एयर कंडीशन आदि से ज्यादा आरामदायक और फायदेमंद होता है।
  • पवन के ताकत को तोड़ने में ये असरकारी है इस वजह से घरों, वनस्पति और खेत आदि को सुरक्षित करने में मददगार है।
  • शहरी क्षेत्रों में खासतौर से धूल के स्तर और प्रदूशण के स्तर को कम करने के द्वारा हमें स्वस्थ रखता है।
  • हवा को ताजा करने के द्वारा पेड़ हमें साँस संबंधी गड़बड़ी और समस्याओं से बचाता है।
  • ये ध्वनि प्रदूषण को कम करने में मदद करता है और ध्वनि बाधा के रुप में असरकारी है क्योंकि आवाज़ को रोकने में पत्थर के जैसे बहुत प्रभावशाली तरीके से कार्य करता है। ये हमें भीड़-भाड़ वाले सड़कों, रेलवे स्टेशन, हवाईअड्डों आदि के आवाजों से बचाता है।
  • पेड़ मिट्टी बहने से बचाता है …… बारिश के पानी के संरक्षण में मददगार है……  और तूफान के दौरान अवसाद जमा होने से बचाता है।

दोस्तों, आखिर में यहीं कहना चाहूँगा …………

अपने नाम से एक पेड़ जरूर लगाए और कम से कम 1 साल तक उसकी देखभाल करें |

धन्यवाद |

DK Panchal

Leave a Reply